Loan क्या है, जानिये भारत में मिलने वाले लोन के प्रकार

0
Loan Kya Hai

Loan Kya Hai – दोस्तों सभी की ज़िन्दगी में ऐसा पल जरुर आता है जब हमारी आर्थिक स्थिति कमजोर पड़ जाती है. इसके अलावा कोई नया बिज़नस शुरू करना है, इन्ही कुछ वजहों से हमें लोन लेना पड़ जाता है. अगर आप भी लोन लेना चाहते हैं तो इस लेख को ध्यान से पढ़ें. इस लेख में यह बताने वाले हैं की लोन क्या है? लोन के प्रकार कौन-कौन से हैं? और लोन कैसे लिया जाता है. एक बात का ध्यान रखें की लेख में बताये गए ब्याज दर अक्सर चेंज होते रहते हैं.

Loan क्या है?

लोन का हिंदी शब्द है शाख. सामान्य शब्दों में जब किसी व्यक्ति के पास धन होता है और वह उस धन को ब्याज पर किसी अन्य जरूरतमंद व्यक्ति को देता है तो उसे लोन कहते हैं. ज्यादातर मामलों में किसी को लोन लेना होता है तो वह किसी बैंक में संपर्क करता है. इसके अलावा किसी सेठ या साहूकार से भी लोन मिल सकता है.

भारत में लोन के प्रकार

आपने यह तो जान लिया कि लोन किसे कहते हैं, लेकिन यह लोन भी कई प्रकार का होता है. अब चलिए जान लेते हैं की भारत में कुल कितने प्रकार के लोन मिल सकते हैं.

1. Personal Loan

जब हम खुद के लिए लोन लेते हैं तो उसे Personal Loan या गैर जमानती लोन कहा जाता है. वैसे तो ज्यादातर लोन हम खुद के लिए ही लेते हैं लेकिन इस पर्सनल लोन का मतलब होता है की अपने खुद के कामो के लिए लिया गया लोन लेना. जैसे की बच्चों की स्कूल फीस भरने के लिए, किसी का इलाज कराना हो, किसी को महँगी गिफ्ट देनी हो या फिर घर का कोई जरुरी सामान लेना हो. पर्सनल लोन की ब्याज दर दुसरे लोन की तुलना में ज्यादा होती है.

अभी 2021 में पर्सनल लोन की ब्याज दर SBI में 9.60% – 13.85%, HDFC में 10.25% – 21%, PNB में 7.95% – 14.50% चल रहा है. सभी बैंकों के लिए ब्याज दर देखना चाहते हैं तो अंत में उसके लिए लिंक दिया गया है.

2. Gold Loan

Gold लोन अक्सर इमरजेंसी में लिया जाता है. Gold लोन में हमारे पास रखे हुए सोने को हम बैंक को देते हैं और बैंक उसके बदले में हमें पैसे देती है. आपको अपने Gold को बैंक के लाकर में रखना पड़ता है. इस तरह का लोन आपको जमा किये गए गोल्ड की क्वालिटी और प्राइस पर मिलते हैं. अधिकतर मामलों में बैंक आपको गोल्ड की कीमत के 80% तक लोन दे देते हैं. Gold लोन की ब्याज दर पर्सनल लोन से क्सफी कम होती है.

अभी 2021 में Gold लोन की ब्याज दर SBI में 7% से ऊपर और HDFC बैंक में 11-16% ली जाती है.

3. Security के बदले मिलने वाला लोन

Security के बदले मिलने वाले लोन या Loan Against Securities में बैंक आपके Security Paper को रख कर लोन देती है. अगर आपने डिमांड शेयर्स, Mutual Funds, Insurance या किसी स्कीम में पहले से ही इन्वेस्ट कर के रखा है तो यह आपके Security Papers होते हैं जिसके बदले में बैंक आपको लोन दे देता है. इन पेपर्स की वैल्यू के अनुसार आपको लोन दिया जाता है. अगर आप लोन चुकाने में असमर्थ होते हैं तो बैंक आपके सिक्यूरिटी पेपर्स को बेच देता है.

आप इन पेपर्स को बैंक में रख कर Overdraft की सुविधा का भी लाभ ले सकते हैं. Overdraft भी एक प्रकार का लोन ही होता है. इसके जरिये अगर आपके अकाउंट में जीरो बलेंस है तब भी आप जरुरत के अनुसार पैसे निकाल सकते हैं.

4. Peroperty Loan

Property लोन वह लोन है जो बैंक आपको आपकी प्रॉपर्टी के पेपर्स रख कर देता है. यह लोन ज्यादा से ज्यादा 15 साल तक के लिए मिल सकता है. आमतौर परज्यादातर मामलों में आपकी Property की जो Valute या प्राइस होती है उसका 40 से लेकर 60% लोन मिल जाता है.

5. Home Loan

जब आप कोई नया घर खरीदने के लिए लोन लेते हैं तो उसे होम लोन कहा जाता है. आप सिर्फ घर बनाने के लिए ही लोन नहीं लेते हैं बल्कि घर बनाने की कीमत, मकान का Registration, स्टाम्प ड्यूटी वगैरह के खर्चे मिला कर बैंक से लोन से सकते हैं. बैंक आपके खर्चे का 75% से लेकर 85% तक लोन दे सकती है. बाकी पैसों का जुगार आपको खुद ही करना होता है. होम लोन की शर्तों में कुछ फीस भी शामिल होती है जैसे की Processing Fees, Administrating Charges, Legal Fees, Assesment Fees आदि.

मान लीजिये की आपने एक प्लाट के लिए लोन लिया जिसकी कीमत 6 लाख है तो आप बैंक को सिर्फ 6 लाख का 30% मतलब 1 लाख 80 हज़ार रुपया देंगे, बाकी की रकम आप धीरे धीरे चुकाते रहेंगे. होम लोन को चुकाने की समय सीमा 5 साल से 20 साल तक हो सकता है.

6. Education Loan

हर मेरिट स्टूडेंट के नसीब में नहीं होता है कि वह मनचाहे Institute में पढ़ाई कर पाए. कोई बड़े Institute जैसे की Oxford University में पढ़ाई करना चाहता है तो उसे पैसे की दिक्कत आ सकती है. वहां की फीस ही इतनी ज्यादा है की वहां जाकर पढ़ाई करने की सोचना भी बड़ा मुश्किल लगता है. ऐसी सिचुएशन में वह Student बैंक से एजुकेशन लोन के लिए अप्लाई कर सकता है.बैंक एजुकेशन लोन देने से पहले उसकी Repayments श्योर करता है.

ऐसा देखा गया है की एजुकेशन लोन सिर्फ उन Students को दिया जाता है जो इसे वापस करने की Capacity रखते हैं. Students की Capacity की जांच Banks दो तरह से करते हैं. या तो उनके Parents की Income को देखा जाता है, या फिर लोन लेने वाले Students किस University में जा रहे हैं, वहां से पढ़कर वो कमाएंगे या नहीं कमाएंगे आदि चीजों को देखा जाता है.

एजुकेशन लोन लेने के लिए एक Guarantor की भी जरुरत पड़ती है जो लोन लेने वाले Students के Parents या रिश्तेदार भी हो सकते हैं. आज 2021 में SBI 7 लाख और उससे ज्यादा के लिए 8.68% ब्याज दर के अनुसार से एजुकेशन लोन देती है.

7. वाहन या Car Loan

Banks अक्सर Car लोन देने के लिए तरह तरह की स्कीम लाते रहते हैं. यह लोन भी एक निश्चित समय के लिए अलग-अलग फ्लोटिंग रेट पर दिए जाते हैं. Fixed Rate का मतलब होता है Fixed Interest Rate मलतब आपके लोन लेने के समय जो ब्याज दर होता है वही लोन चुकाने तक लागू रहती है. फ्लोटिंग रेट में ब्याज दर कम या ज्यादा हो सकती है. बैंक आपसे लोन लेने से पहले ही पूछ लेती है की आपको लोन Fixed Rate में चाहिए या Floating Rate में चाहिए.

जब तक लोन का पूरा पैसा चुकता नहीं होता है तब तक Car पर मालिकाना हक़ लोन देने वाले Bank का ही रहता है. आपको Bank में अपनी सैलेरी स्लीप और 2-3 साल का Income Tax Return जमा करना पड़ सकता है. इसके अलावा अपनी ID प्रूफ (पहचान प्रमाण) और एड्रेस प्रूफ भी जमा करना होता है.

8. Corporate/Business Loan

Bank जब बड़े बड़े उद्योगपतियों जैसे TATA, Birla या Ambani को लोन मुहैया कराता है तो उसे Corporate लोन कहते हैं. पहले के नियमों के अनुसार कोई बैंक अपनी कोर कैपिटल का 55% तक का कॉर्पोरेट लोन दे सकती थे. मगर हाल ही में हुए कुछ डिफाल्टर केसेस को देखते हुए RBI ने अधिकतम 50 लाख तक का कॉर्पोरेट लोन देने की अनुमति दे रखी है.

Personal Loans के ब्याज दर देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

अंतिम शब्द

दोस्तों आज के इस लेख में आपने जाना कि लोन किसे कहते हैं और भारत में कुल कितने प्रकार से लोन दिया जाता है. आपको हमरा यह लेख कैसा लगा हमें Comment में बताएं. साथ ही लेख पसंद आया हो तो इसे सोशल साइट्स में शेयर करना ना भूलें.

REVIEW OVERVIEW
Loans Apply
Previous articleInsurance(बीमा) क्या है? यह कितने प्रकार का होता है
Next articleFinance क्या है एवं इसके प्रकार कौन-कौन से हैं
दोस्तों मै Harsh Lahre इस Loans Apply ब्लॉग का फाउंडर हूँ. इस ब्लॉग में हम लोन, इन्शुरन्स, फाइनेंस और बैंकिंग से जुडी जानकारियाँ प्रोवाइड करते हैं. आप ऐसे ही इस ब्लॉग में विजिट करते रहें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here