Insurance(बीमा) क्या है? यह कितने प्रकार का होता है

0
Insurance Kya Hai

Insurance Kya Hai – दोस्तों आपने कभी-न-कभी Insurance या बीमा शब्द जरुर सुना होगा. कई लोगों को Insurance कराते भी देखा होगा, लेकिन सभी को इसके बारे में पूरी जानकारी नहीं होती है. इसलिए आज के इस लेख में हम बताने वाले हैं कि यह बीमा क्या होता है और इसके कितने प्रकार होते हैं. इस लेख को अंत तक पढने के बाद आपको भी Insurance के बारे में पूरी जानकारी हो जाएगी.

Insurance क्या है

Insurance या बीमा वास्तव में एक Agreement या अनुबंध है जो बीमा कंपनी और बीमा लेने वाले के बीच होता है. इसके अंतर्गत अगर बीमा लेने वाले(बीमित) व्यक्ति को एक निश्चित धनराशि प्रतिमाह या प्रतिवर्ष देनी पड़ती है. इसी बीच अगर बीमित व्यक्ति को किसी आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ रहा है तो उसकी भरपाई बीमा कंपनी करती है.

सामान्य शब्दों में यह एक सुरक्षा है जो हमें अनचाहे जोखिम से बचाती है. आप किसी व्यक्ति, घर, कार या अन्य वाहन, मोबाइल आदि का बीमा करा सकते हैं.

Insurance के प्रकार

वैसे तो Insurance(बीमा) के बहुत सारे प्रकार होते हैं, लेकिन मुख्यतः इसके दो प्रकार होते हैं- Life Insurance (जीवन बीमा) और General Insurance (साधारण बीमा). आइये इन दोनों को विस्तार से जानते हैं.

Life Insurance (जीवन बीमा)

जीवन बीमा में किसी इंसान की जिंदगी का बीमा कराया जाता है. जीवन बीमा के अंतर्गत बीमा लेने वाले व्यक्ति की अकस्मात् मृत्यु हो जाने पर उसके परिवार वालों को बीमा कंपनी की तरफ से मुआवजा दिया जाता है. यह मुआवजा बीमा कंपनी के शर्तों के अनुरूप दिया जाता है.

आप सभी जानते हैं की घर के मुखिया की मृत्यु होने पर घर चलाना काफी मुश्किल हो सकता है. इसकी वजह से परिवार को भारी आर्थिक नुकसान का सामना करना पड़ सकता है. अगर आप अपने माता-पिता, पत्नी और बच्चों को आर्थिक संकट से बचाना चाहते हैं तो जीवन बीमा अवश्य लें. आप जितने ज्यादा अमाउंट की Insurance Policy खरीदते हैं उतना ज्यादा आपको कवर(मुआवजा) मिलता है.

General Insurance (साधारण बीमा)

साधारण बीमा या General Insurance के अंतर्गत आप अपने घर, वाहन, मोबाइल, पशु या फसल आदि का बीमा ले सकते हैं. बीमा लेने के बाद अगर कभी आपकी कोई बस्तु टूट-फुट जाती है या पशु की मृत्यु हो जाती है या फसल खराब हो जाती है तो इसके लिए आपको बीमा कंपनी की तरफ से मुआवजा मिलता है. साधारण बीमा के और भी बहुत सारे प्रकार हैं जिन्हें नीचे बताया गया है.

1. स्वास्थ्य बीमा (Health Insurance)

आजकल इलाज का खर्चा जिस प्रकार बढ़ रहा है उसे देख कर Health Insurance लेना जरुरी हो जाता है. स्वास्थ्य बीमा लेने के बाद बीमारी के इलाज का खर्चा बीमा कंपनी कवर करती है. Health Insurance लेने पर आप मेडिकल के खर्चे से बच सकते हैं. Insurance कंपनी स्वास्थ्य बीमा पालिसी के तहत किसी भी तरह की बीमारी में होने वाले इलाज के खर्चे की रकम देती है. प्राप्त होने वाले रकम की सीमा आपके हेल्थ इन्शुरन्स पालिसी पर निर्भर करती है.

2. घर का बीमा (Home Insurance)

Home Insurance में आपके घर की बिल्डिंग और उसमे रखे सामान की पालिसी बनायीं जाती है. इसमें बीमा कंपनी आपके किसी सामान के ख़राब होने या घर गिरने या कोई एक्सीडेंट होने पर आपको मुआवजा देती है. अगर आपके घर में आग लग जाती है, घर का कोई सामान चोरी हो जाता है या कोई अन्य दुर्घटना हो जाती है तो आपके Home Insurance पालिसी के अंतर्गत मुआवजा दिया जाता है.

3. वाहन बीमा (Auto Insurance)

आजकल हर किसी के पास Motorcycle या Car या कोई-न-कोई साधन देखने को मिल जाता है जिससे वह सफ़र कर सके. आयेदिन होने वाले एक्सीडेंट्स को देखते हुए वाहन का बीमा कराना भी जरुरी हो जाता है. अगर आपकी गाड़ी का एक्सीडेंट हो जाता है या गाड़ी चोरी हो जाती है तो बीमा कंपनी आपको आपकी गाड़ी ठीक कराने या दुर्घटना के खर्चे को पूरा करने के लिए मुआवजा देती है.

यह बीमा बहुत जरुरी होता है क्योकि हम इतनी मेहनत कर के पैसे जमा कर के गाड़ी लेते हैं और एक एक्सीडेंट काफी ज्यादा नुकसान हो जाता है. ऐसे में अगर आपने अपनी गाड़ी का इन्सुरंस कराया है तो पूरा कवर बीमा कंपनी देती है.

4. Travell Insurance (यात्रा बीमा)

अगर आप काफी ज्यादा Traveling करते रहते हैं या अपने परिवार के साथ अक्सर कहीं घुमने जाते ही रहते हैं तो आपके लिए Travel Insurance लेना काफी जरुरी हो जाता है. अगर आप कहीं सफ़र पर जाते हैं और आपके साथ कोई दुर्घटना घट जाती है या सामन गुम हो जाता है तो उसकी भरपाई Insurance Compnay करती है.

Travel Insurance आपकी यात्रा शुरू होने से लेकर यात्रा ख़त्म होने तक ही वैध रहती है. इस प्रकार के बीमा के लिए विभिन्न बीमा कंपनियों की शर्ते अलग अलग हो सकती हैं.

5. फसल बीमा (Crop Insurance)

यह बीमा मुख्यतः किसानो के लिए बनाया गया है. अभी के नियमो के अनुसार Agriculture Loan लेने वाले हर किसान को फसल बीमा लेना जरुरी है. मौसम का कोई भरोसा नहीं होता है कि कब आपकी फसल पर कोई विपत्ति आ जाये. Crop Insurance के अंतर्गत फसल को बारिश या किसी अन्य कारण से होने वाले हर नुकसान की भरपाई बीमा कंपनी करती है.

एक नज़र में फसल बीमा पालिसी की शर्ते काफी कड़ी हैं इसीलिए किसानो में फसल बीमा को लेकर उतना उत्साह नहीं दिखता है. जब आपकी फसल खराब होती है तो बीमा कंपनी के लोग सर्वे के लिए आते हैं. जब आपकी फसल को होने वाला नुकसान आस-पास के खेतों में भी दिखाई देता है तभी आपको मुआवजा दिया जाता है.

6. पालतू बीमा (Pet Insurance)

अगर आप अपने घर में बिल्ली या कुत्ते पालने के शौक़ीन हैं या आपके घर में गाय भैस या अन्य कोई पालतू जानवर है तो आप उसका Pet Insurance करा सकते हैं. Pet Insurance किसी भी पालतू जानवर का कराया जा सकता है. या Insurance लेने के बाद अगर आपके पालतू जानवर को कुछ हो जाता है या उसकी मृत्यु हो जाती है तो बीमा कंपनी उसका मुआवजा देती है.

7. कारोबार उत्तरदायित्व बीमा (Business Liability Insurance)

कारोबार उत्तरदायित्व बीमा वास्तव में किसी कंपनी के उत्पाद से ग्राहक को होने वाले नुकसान या अन्य काम काज की नुकसान की भरपाई के लिए लिया जाता है. अगर आपकी कंपनी से ग्राहक को कोई नुकसान होता है तो जुर्नामा और कानूनी कार्यवाही का पूरा खर्चा Business Liability Insurance करने वाली बीमा कंपनी को उठाना पड़ता है.

अंतिम शब्द

हमने आपको Insurance के बारे में और उसके प्रकार के बरे में काफी कुछ बता दिया है. हमें उम्मीद है कि आपका कंफ्यूजन दूर हो गया होगा. आपको हमारा यह लेख कैसा लगा हमें Comment में बतायें. इसके साथ ही लेख पसंद आया हो तो इसे नीचे दिए गए सोशल बटन्स की सहायता से शेयर जरुर करें.

REVIEW OVERVIEW
Loans Apply
Next articleLoan क्या है, जानिये भारत में मिलने वाले लोन के प्रकार
दोस्तों मै Harsh Lahre इस Loans Apply ब्लॉग का फाउंडर हूँ. इस ब्लॉग में हम लोन, इन्शुरन्स, फाइनेंस और बैंकिंग से जुडी जानकारियाँ प्रोवाइड करते हैं. आप ऐसे ही इस ब्लॉग में विजिट करते रहें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here